Dhoni Balidan badge gloves

महेंद्र सिंह धोनी के “बलिदान बैज” को ग्लव्स पर लगाने से पाकिस्तान के इस मंत्री की नींद हराम

Dhoni Balidan badge gloves: पाकिस्तान सरकार में विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री चौधरी फवाद हुसैन ने एमएस धोनी की विकेटकीपिंग के दौरान ग्लव्स पर बलिदान चिन्ह लगाने से मिर्ची लग गई है। पाकिस्तानी मंत्री ने कहा है कि धोनी इंग्लैंड खेलने गए हैं, महाभारत नहीं। वास्तव में, जब महेंद्र सिंह धोनी दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले भारतीय मैच में विकेट रख रहे थे, तब उनके दस्ताने में भारतीय सेना के साथ उनके बलिदान की तस्वीर थी। दस्ताने पर इस निशान की उपस्थिति के साथ, आईसीसी ने बीसीसीआई पर आपत्ति जताई है और इसे हटाने का आग्रह किया है। तब से, इस देश में इस बात पर चर्चा तेज हो गई है कि दस्ताने पर इस चिह्न के अस्तित्व पर आईसीसी की आपत्ति क्या है?

Dhoni Balidan badge gloves – पाकिस्तानी मंत्री का बयान

Dhoni Balidan badge gloves

पाकिस्तानी मंत्री ने ट्वीट किया, “धोनी महाभारत नहीं बल्कि इंग्लैंड क्रिकेट गए हैं। भारतीय मीडिया में इतना रोष है कि उन्हें सीरिया, अफगानिस्तान और रवांडा में लड़ने के लिए भेजा जाना चाहिए।”

Dhoni Balidan badge gloves – बैज क्या है?

Dhoni Balidan badge gloves

धोनी के दस्ताने पर इन अद्वितीय मार्करों ने पैरा-कमांडो पर बैज लगाए। इस बिल्ला को ‘बलिदान बैज’ के रूप में जाना जाता है। इस बैज में देवनागरी लिपि में ‘बलिदान’ शब्द लिखा गया है। यह बैज चांदी की धातु से बना है, जिसके शीर्ष पर लाल प्लास्टिक की एक आयत है। यह बैज केवल पैरा-कमांडो द्वारा पहना जाता है। गौरतलब है कि पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को क्रिकेट में अपार उपलब्धियों के कारण 2011 में मानद लेफ्टिनेंट कर्नल का दर्जा दिया गया था। इतना ही नहीं, धोनी अगस्त 2015 में प्रशिक्षित पैराट्रूपर बन गए। आगरा में पैराट्रूपर्स ट्रेनिंग स्कूल में भारतीय वायु सेना के एएन -32 विमान से पांचवीं छलांग पूरी करने के बाद, उन्होंने प्रतिष्ठित पैरा विंग्स लोगो लगाने के लिए अर्हता प्राप्त की। इसके बाद, उन्होंने बैज का सम्मान किया था। हालांकि, आईसीसी ने अपनी आपत्ति पर स्पष्ट कर दिया है। अब देखना दिलचस्प होगा कि अंतरिम फैसला क्या होता है।

Dhoni Balidan badge gloves – आईसीसी के नियम

Dhoni Balidan badge gloves

हालांकि, आईसीसी के नियमों के अनुसार, “किसी खिलाड़ी और टीम की आधिकारिक जर्सी पर कोई संकेत नहीं होना चाहिए, जो राजनीतिक, धार्मिक और विशेष दौड़ से संबंधित है।”

Dhoni Balidan badge gloves – धोनी को यह सम्मान सेना से मिला है

आपको बता दें कि एमएस धोनी को 2011 में प्रादेशिक सेना में मानद लेफ्टिनेंट कर्नल का पद दिया गया था। वह पूर्व कप्तान कपिल देव के बाद दूसरे खिलाड़ी हैं जिन्हें यह सम्मान मिला। 2015 में धोनी एक प्रशिक्षित पैराट्रूपर बन गए। आगरा में पैराट्रूपर्स ट्रेनिंग स्कूल (पीटीएस) में भारतीय वायु सेना के एएन -32 विमान से पांचवीं छलांग लगाने के बाद, उन्होंने प्रतिष्ठित पैरा विंग्स लोगो के लिए अपेक्षित योग्यता हासिल कर ली थी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *