अगर आपका भी जन्म 1960 और 1998 के बीच हुआ है, तो आप इस खबर को जरूर पढ़ें, अच्छी खबर मिलेगी ... - fate of the people born between 1960 and 1998
ज्योतिष

अगर आपका भी जन्म 1960 और 1998 के बीच हुआ है, तो आप इस खबर को जरूर पढ़ें, अच्छी खबर मिलेगी …

fate of the people born between 1960 and 1998

fate of the people born between 1960 and 1998: आपको बता दें कि ज्योतिषियों ने भविष्यवाणी की है कि जो लोग 1960 और 1998 के बीच पैदा हुए हैं, उनके लिए एक बहुत खुश खबर है जो आपको सुनेंगे, क्योंकि उनके पास अब अच्छा समय है, उनके जीवन की सभी परेशानियां खत्म हो जाएंगी। और जीवन में आशा का एक सूरज होगा जो आपको सफलता की नई उम्मीद देगा। आप अपने काम के लिए प्रयास कर रहे हैं क्योंकि सफलता बहुत करीब आ गई है।

fate of the people born between 1960 and 1998

उनकी आय में वृद्धि होगी, धार्मिक कार्यों में रुचि बढ़ेगी, कोई पुराना काम सफल हो सकता है और किसी नई परियोजना का प्रस्ताव भी मिल सकता है। प्रेम प्रसंग में माहौल खराब होने के आसार हैं। विद्यार्थियों के लिए यह समय काफी अनुकूल रहेगा, जिसमें आपको अपनी मेहनत का फल मिलेगा, प्रेम संबंधों की गहराई बढ़ सकती है।

अविवाहित जीवन के मांगलिक कार्यों को लेकर चर्चा हो सकती है। स्त्री वर्ग से लाभ होने की संभावना है। छोटे प्रवास पर जा सकते हैं। मित्रों का सहयोग मिलेगा। व्यावसायिक जीवन में लाभ ही लाभ हो सकता है। आय के स्रोतों में वृद्धि की संभावना है।

साथी की गतिविधियों पर नज़र रखना आवश्यक है। गृह कार्यालय में काम का बोझ वाहन की खरीद से अधिक हो सकता है। सहयोगियों के लोगों से प्रस्ताव प्राप्त होगा। रुका हुआ धन प्राप्त होगा। आज आप जो भी काम करेंगे, अपने दम पर निपटाने की कोशिश करेंगे, आपको मनोरंजन भी मिल सकता है।

अधिकारी वर्ग के लोगों से संपर्क मजबूत रहेगा। मन में बुरे विचार न आने दें। वाहन के रखरखाव से संबंधित लागत होगी। लेन-देन में सावधानी रखें। किसी से उपहार प्राप्त हो सकता है। संतान के कार्यों से मन प्रसन्न रहेगा। छात्र प्रतियोगी परीक्षा में सफल होंगे। पुराने दोस्तों के साथ मिलकर एक नए प्रोजेक्ट पर काम कर सकते हैं। जिस काम के लिए आप बार-बार कोशिश कर रहे थे वो पूरा हो जाएगा, उन्हें अब सभी कामों में सफलता मिलने वाली है!

Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

To Top
// Infinite Scroll $('.infinite-content').infinitescroll({ navSelector: ".nav-links", nextSelector: ".nav-links a:first", itemSelector: ".infinite-post", loading: { msgText: "Loading more posts...", finishedMsg: "Sorry, no more posts" }, errorCallback: function(){ $(".inf-more-but").css("display", "none") } }); $(window).unbind('.infscr'); $(".inf-more-but").click(function(){ $('.infinite-content').infinitescroll('retrieve'); return false; }); $(window).load(function(){ if ($('.nav-links a').length) { $('.inf-more-but').css('display','inline-block'); } else { $('.inf-more-but').css('display','none'); } }); $(window).load(function() { // The slider being synced must be initialized first $('.post-gallery-bot').flexslider({ animation: "slide", controlNav: false, animationLoop: true, slideshow: false, itemWidth: 80, itemMargin: 10, asNavFor: '.post-gallery-top' }); $('.post-gallery-top').flexslider({ animation: "fade", controlNav: false, animationLoop: true, slideshow: false, prevText: "<", nextText: ">", sync: ".post-gallery-bot" }); }); });