Home Job Career 27 साल की उम्र में खड़ी कर दी 7000 करोड़ की कंपनी...

27 साल की उम्र में खड़ी कर दी 7000 करोड़ की कंपनी !

0
24
Girls age 27 company 7000 crores

Girls age 27 company 7000 crores: अंकिती बोस 27 साल की उम्र में 27 हजार करोड़ की कंपनी चलाने वाली एशिया की सबसे युवा मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीइओ) हैं। ये मूल रूप से बेंगलुरु की रहने वाली हैं और इनके पिता राज्य की तेल कंपनी में इंजीनियर हैं। मां ने इनके लिए अपनी लेक्चरर की नौकरी छोड़ दी थी जिससे इनकी पढ़ाई अच्छे से पूरी हो सके।

Girls age 27 company 7000 crores –

मुंबई की रहने वाली 27 वर्षीय अंकिता बोस महज चार साल में लेहलिंगो ई-कॉमर्स कंपनी में अपने मुकाम पर पहुंच गई हैं। अंकिता बोस की कंपनी यूनिकॉर्न का दर्जा पाने वाली पहली भारतीय महिला बन गई है। जिलिनहो एक दक्षिण-पूर्व एशिया की अग्रणी फैशन ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म कंपनी है। Jilingo मंच थाईलैंड, इंडोनेशिया और फिलीपींस में लोकप्रिय है। अंकित कंपनी के सह-संस्थापक और सीईओ भी हैं।

जिस कंपनी का वार्षिक कारोबार 1 बिलियन अमेरिकी डॉलर है, उसे यूनिकॉर्न का दर्जा दिया जाता है। अंकिता-ध्रुव का बाजार मूल्य वर्तमान में $ 970 मिलियन है। Geilingo का मुख्यालय सिंगापुर में है और कंपनी की टेक टीम बैंगलोर से काम करती है। ध्रुव कपूर, एक 24 वर्षीय छात्र IIT गुवाहाटी में पढ़ता है, जो कंपनी का एक अन्य सह-संस्थापक है। ध्रुव टीम में लगभग 100 लोग काम करते हैं

जिलिंगो चार सालों में एक अरब डॉलर की वैल्यूएशन के करीब पहुंच गया है। इसकी शुरुआत 2015 में हुई थी।जिलिंगो में पहला निवेश सिक्योई ने ही किया था। कपूर जिलिंगो में चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर हैं। अंकिती को ये आईडिया साल 2013 में आया, तब वह थाईलैंड में छुट्टियां मना रही थीं। उन्होंने ये नोटिस किया कि वहां कोई ई-कॉमर्स मार्केटप्लेस उपलब्ध नहीं है।सिंगापुर में रेग्युलेटरी फाइलिंग में जिलिंगो ने बताया कि मार्च 2018 को वित्त वर्ष समाप्त होने पर कंपनी का रेवेन्यू 12 गुना बढ़ा है। इससे पहले 31 मार्च, 2017 को खत्म वित्त वर्ष में जिलिंगो का रेवेन्यू 13 करोड़ रुपये (18 लाख डॉलर) रहा था। अब थाईलैंड और कंबोडिया समेत आठ देशों में जिलिंगो के ऑफिस हैं, जहां 400 कर्मचारी काम करते हैं।

इनका पसंदीदा विषय मैथ्स और अर्थशास्त्र है जिसे समझने के लिए ये स्कूल के दौरान से ही कड़ी मेहनत करती थीं। इंजीनियरङ्क्षग की पढ़ाई पूरी होने के बाद 24 साल की उम्र में इन्हें एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में सॉफ्टवेयर कंपनी में नौकरी मिल गई। चार महीने तक काम करने के बाद इन्हें आइडिया आया कि क्यों न खुद का बिजनेस किया जाए। दोस्त के साथ मिलकर 21 लाख रुपए के निवेश से जिलिगो नाम की कंपनी शुरू की जो ऑनलाइन प्लेटफॉर्म है और छोटे व्यापारियों को बिजनेस खड़ा करने में मदद करती है।

उन्होंने 2012 में सेंट जेवियर्स कॉलेज, मुंबई से अर्थशास्त्र और गणित में स्नातक किया है। बैंक में एक कार्यक्रम के बाद, उसने ऑनलाइन बाजार में जाने का फैसला किया। 2014 के बाद उनकी पहचान ध्रुवजी बन गई। उस समय, उन्होंने एक साथ इस क्षेत्र में शामिल होने का फैसला किया। इसने तुरंत काम करना शुरू कर दिया। भारत में, Filippart, Amazon जैसी एक कंपनी के रूप में, उन्होंने अपना नेटवर्क बनाया, उन्होंने भारत से बाहर जाने का फैसला किया। उनकी मन की कल्पना 2015 में गीलोंगो के नाम से अस्तित्व में आई। चार साल बाद, कंपनी $ 970 मिलियन हो गई है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here