करोड़ों का घोटाला करने वाले उद्योगपतियों ... - Bank cheat minimized transaction
अजब-गजब

करोड़ों का घोटाला करने वाले उद्योगपतियों से नहीं बल्कि ‘आम आदमी’ से जुर्माना वसूल रही है SBI …

Bank cheat minimized transaction

Bank Cheat Minimized Transaction: करोड़ों का घोटाला करने वाले उद्योगपतियों से नहीं बल्कि ‘आम आदमी’ से जुर्माना वसूल रही है SBI … सरकारी बैंकों में हज़ारों करोड़ का घोटाला तो उद्योगपति कर रहे हैं! लेकिन Bank जुर्माना आम नागरिक से वसूल रहे हैं! स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया (SBI) ने फिर से आम आदमी के Bank खतों से करोड़ों रुपये उड़ा लिए हैं! ग्राहकों की एक चूक से भारतीय State Bank ने पिछले 40 माह में 38 करोड़ 80 लाख रुपये की कमाई कर ली है!

Bank Cheat Minimized Transaction-

बैंक ने ये रकम सिर्फ Check पर Sign नहीं मिलने की वजह से खाताधारकों के खाते से काटी है! इतना ही नहीं सरकार ने इसपर GST लगाकर रकम को और बढ़ा दिया! दैनिक भास्कर की एक Report के मुताबिक, भारतीय स्टेट बैंक ने पिछले 40 महीने में 24 लाख 71 हजार 544 लाख चेक Sign मेल नहीं होने के कारण लौटाए हैं!

एक RTI के जवाब में बैंक ने माना कि कोई भी Check Return पर बैंक ने 150 रुपये चार्ज काटा और इस पर GST भी लगाया! यानी हर रिटर्न चेक का खमियाजा Account Holder को 157 रुपये में भुगतना के रूप में देना पड़ा!

Report में यह भी बताया गया है कि वित्त वर्ष 2017-18 में सिर्फ हस्ताक्षर नहीं मिलने की वजह से खाताधारकों के खाते से 11.9 करोड़ रुपए काटे गए हैं!

बता दें, कि ये पहली बार नहीं है जब SBI ने बैंक खाताधारकों पर इस तरह का जुर्माना लगाया हो! इस से पहले जनवरी में रिपोर्ट आई थी कि SBI ने मिनिमम बैलेंस (Minimum Balance) न रखने वाले ग्राहकों से 1771 करोड़ रुपये चार्ज के तौर पर वसूले हैं!

मिनिमम बैलेंस के तौर पर वसूला गया यह Charge एसबीआई (SBI) की दूसरी तिमाही के नेट प्रोफिट 1,581.55 करोड़ रुपये से भी ज्यादा है!

और देखें – कौन हैं मदनलाल दाती महाराज जिनपर मंदिर में रेप का आरोप लगा है..

Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

To Top
// Infinite Scroll $('.infinite-content').infinitescroll({ navSelector: ".nav-links", nextSelector: ".nav-links a:first", itemSelector: ".infinite-post", loading: { msgText: "Loading more posts...", finishedMsg: "Sorry, no more posts" }, errorCallback: function(){ $(".inf-more-but").css("display", "none") } }); $(window).unbind('.infscr'); $(".inf-more-but").click(function(){ $('.infinite-content').infinitescroll('retrieve'); return false; }); $(window).load(function(){ if ($('.nav-links a').length) { $('.inf-more-but').css('display','inline-block'); } else { $('.inf-more-but').css('display','none'); } }); $(window).load(function() { // The slider being synced must be initialized first $('.post-gallery-bot').flexslider({ animation: "slide", controlNav: false, animationLoop: true, slideshow: false, itemWidth: 80, itemMargin: 10, asNavFor: '.post-gallery-top' }); $('.post-gallery-top').flexslider({ animation: "fade", controlNav: false, animationLoop: true, slideshow: false, prevText: "<", nextText: ">", sync: ".post-gallery-bot" }); }); });