जो कोई और पार्टी नहीं कर पायी, अब वो बदलाव करेगी मोदी सरकार?

0
national anthem

National Anthem: जो कोई और पार्टी नहीं कर पायी, अब वो बदलाव करेगी मोदी सरकार? वजह ‘सिंध’ (Sindh) जो कभी भारत का हिस्सा हुआ करता था! बटवारे के समय वह पाकिस्तान (Pakistan) में जा मिला! हैरत की बात है कि तब किसी ने इसे बदलना मुनासिब नहीं समझा पर अब कांग्रेस सांसद रिपुन बोरा (Ripun Bora) इस मामले को उठा रहे हैं! इससे पहले शिवसेना (Shiv Sena) ने भी इसी शब्द पर आपत्ति जताई थी!

National Anthem-

ध्यान रहे, देश का बंटवारा साल 1947 (Partition, 1947) में हुआ था! और इस रचना ( जन-गण-मन) को जन्म देने वाले रवीन्द्रनाथ टैगोर जी (Ravindra Nath Tagore) की मृत्यु 7 अगस्त 1941, कोलकाता में हुई! खबरों के मुताबिक़ कांग्रेस सांसद रिपुन बोरा ने शुक्रवार को राज्यसभा (Rajyasabha) में राष्ट्र गान (National Anthem) को लेकर एक संशोधन की मांग करते हुए प्रस्ताव पेश किया है!

 

असम से सांसद बोरा (Bora, Assam) ने राष्ट्रगान से ‘सिंध’ शब्द निकालने की मांग की! उनका कहना है कि क्योंकि यह एक ऐसे राज्य को संदर्भित करता है! जो साल 1947 में भारत के विभाजन के बाद पाकिस्तान का हिस्सा बन गया! रिपुन ने अपनी मांग में यह भी लिखा है! कि तत्कालीन राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद (Rajendra Prashad, President) ने संविधान सभा में 24 जनवरी 1950 को कहा था! कि यदि सरकार चाहे तो वह राष्ट्रगान (National Anthem) में बदलाव ला सकती है!

और देखें – Arvind Kejriwal : मैं एक झूठा मुख्यमंत्री हूँ …

कांग्रेस सांसद ने कहा है कि ‘सिंध’ की जगह ‘नार्थ ईस्ट’ (North-east) शब्द को राष्ट्रगान में सम्मिलित किया जाना चाहिए! जो भारत के पूर्वोत्तर इलाके में स्थित राज्यों का उल्लेख करेगा! उन्होंने यह भी लिखा है! कि नॉर्थ ईस्ट भारत (North-East) का अभिन्न अंग है लेकिन राष्ट्रगान में इस राज्य का कोई जिक्र नहीं है!

इससे पहले इसी तरह की मांग मार्च 2016 में शिवसेना के सांसद अरविंद सावंत (Arvind Sawant, Shivsena) ने उठाई थी! जिन्होंने ‘सिंध’ शब्द को राष्ट्रगान से हटाने की मांग की थी, क्योंकि अब प्रांत पाकिस्तान (Pakistan) का हिस्सा है! बता दें 1911 में नोबेल पुरस्कार विजेता रबींद्रनाथ टैगोर (Nobel Award Winner, Rajendra Prasad) ने राष्ट्र गान ‘जन गण मन’ लिखा था! जब भारतीय क्षेत्र पश्चिम (West) से लेकर पूर्व (East) तक और सिलहट तक फैला था!

हालांकि, बंटवारे के बाद, सिंध, बलूचिस्तान (Bluchistan), खैबर-पख्तूनख्वा और पंजाब के कुछ हिस्से पाकिस्तान में चला गया! वहीं सिलहट, ढाका (Dhaka, Bangladesh Capital) और बंगाल के अन्य भागों को पूर्वी पाकिस्तान को सौंप दिया गया! जो कि बाद में बांग्लादेश बन गया!

और देखें – ये है साले सबसे भ्रष्ट नेता, देश को दीमक की तरह चाट गए …

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here